BETWEEN ARTICLE

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ) KYA HAI II ISKE FAYDE AUR NUKSAN KYA HAI ?

Artificial intelligence

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ) ke bare me is bataunga

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ) INTRODUCTION

इसके बारे में तो आपने जरूर सुना होगा और आजकल हम अपने स्मार्टफोन में गूगल मैप और गूगल वॉइस जैसे टूल्स का प्रयोग करते हैं और वास्तविक रूप में इसका इस्तेमाल भी कर रहे हैं इस पूरे ब्रह्मांड में मनुष्य की एक ऐसा जीव है जिसे ईश्वर ने दिमाग देने के साथ उसको सही तरीके से उपयोग करने के लिए कुशलता प्रदान की है 

मनुष्य अपनी बुद्धि और कुशलता से आज कहां से कहां पहुंच गया है अपनी इस बुद्धि के बल पर इंसानों ने कंप्यूटर इंटरनेट स्मार्टफोन जैसे और भी कई सारे आविष्कार किए हैं जिसकी वजह से हम मनुष्य की जिंदगी को एक नई दिशा मिली है टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में इंसान ने इतना विकास कर लिया है कि अब उसी की तरह सोचने समझने और अपने दिमाग का इस्तेमाल करने वाला एक चलता फिरता मशीन तैयार करने के बारे में सोच रहा है

 जो बिल्कुल इंसानों की तरह काम करने की क्षमता रखता है उसके पास टेक्नोलॉजी से बनने वाली मशीनों को ही ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )कहा जाता है

लोगों को ज्यादा कुछ नहीं पता इसलिए हम आज आपके लिए इस आर्टिकल में ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )से जुड़ी खास जानकारी लेकर आए हैं इसमें आपको आई क्या है? इसका इस्तेमाल कहां किया जाएगा और इसके क्या फायदे हैं और क्या नुकसान है इन सभी के बारे में बताएंगे ?

 सबसे पहले हम जानेंगे कि ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )होता क्या है

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )हिंदी में कृत्रिम बुद्धिमता कहा जाता है कृत्रिम बुद्धिमता का मतलब है इंटेलिजेंस यानी सोचने की शक्ति I

 एआई कंप्यूटर विज्ञान की एक शाखा है जो ऐसी मशीन को विकसित कर रही है जो इंसान की तरह सोच सके और कार्य कर सकें जब हम किसी कंप्यूटर को इस तरह तैयार करते हैं कि वह मनुष्य की अक्ल मंदी की तरह कार्य कर सकें तो उसे ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )कहते हैं 

अर्थात जब हम किसी मशीन में इस तरह के प्रोग्राम सेट करते हैं कि वह एक मनुष्य की भांति कार्य कर सकें उसे ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )कहा जाता है

 यह जो इंटेलिजेंस की ताकत होती है यह हम मनुष्य के अंदर अपने आप ही बढ़ती है कुछ देख कर खुद चुन कर कुछ ऊपर कि हम यह सोच सकते हैं कि उस चीज के साथ कैसा व्यवहार करना चाहिए ठीक उसी तरह कंप्यूटर यंत्र के अंदर भी एक तरह का इंटेलिजेंस डेवलप्ड जाता है जिसके जरिए कंप्यूटर सिस्टम या रोबोटिक सिस्टम तैयार किया जाता है जो उन्हें तर्कों के आधार पर चलता हैI 

जिसके आधार पर मानव मस्तिक काम करता है कंप्यूटर साइंस के कुछ वैज्ञानिकों ने एआई की पर research दुनिया के सामने रखी थी जिसमें उन्होंने बताया था कि artificial intelligence कांसेप्ट के थ् द्वारा एक ऐसा कंप्यूटर कंट्रोल्ड मशीन ,ऐसा सॉफ्टवेयर बनाने की योजना बनाई जा रही है जो वैसा ही सोच सके जैसे कि इंसान का दिमाग होता है I

 मानव सोचने और एनालाइज करने ,याद रखने का काम भी कंप्यूटर की मदद से करवाना चाहता है कंप्यूटर साइंस में एआई को मशीन लर्निंग के नाम से भी जाना जाता है मशीन लर्निंग एआई का एक हिस्सा है जो सिस्टम को अपने अनुभव से अपने आप ही सीखने और खुद को डिवेलप करने की क्षमता देता है और इसमें कंप्यूटर खुद को इंसान की मदद के बिना ही सीखने की टेक्निक डिवेलप करता है I

 मशीन लर्निंग कंप्यूटर प्रोग्राम के डेवलपमेंट के उसको पर फोकस करता है जो डाटा को एक्सेस कर सके और उसमें अपने आप प्रोग्राम को डेवलप कर सके जिस तरह मनुष्य अपने अनुभव से अपने लाइफ को बेहतर करते हैं ठीक उसी प्रकार ऐसे प्रोग्राम बनाए जाते हैं जिसके जरिए मशीन सीखने का काम करते हैं आज के समय में आई और मशीन लर्निंग सबसे ज्यादा पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का उपयोग किया जा रहा है चलिए

 हम जाने कि जी ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )की शुरुआत किसने की 

जब इंसान कंप्यूटर की असली ताकत की खोज कर रहा था तब मनुष्य के दिमाग में यह सोचने पर मजबूर किया कि क्या एक मशीन भी इंसान की तरह सो सकती है इसी सवाल से ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )के विकास की शुरुआत हुई इसके पीछे एक ही उद्देश्य था कि एक ऐसा बदमान मशीन की संरचना की जाए जो कि इंसान की तरह ही बुद्धिमान हो और उनकी तरह ही सोचने समझने और सीखने की क्षमता रखता हो I 

HISTORY OF ARTIFICIAL INTELLIGENCE

 1995 में सबसे पहले जॉन mekal  ने ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )शब्द का इस्तेमाल किया था वह एक अमेरिकन कंप्यूटर साइंटिस्ट थे जिन्होंने सबसे पहले इस टेक्नोलॉजी के बारे में सन 1956 में एक कॉन्फ्रेंस पर बताया था इसलिए उन्हें फादर ऑफ ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )कहा जाता है I

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )कोई नहीं है दुनिया भर में इस पर चर्चा हो रही है मैट्रिक्स रोबोट ,Terminator ,ब्लेड रनर जैसी फिल्मों का concepts ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )का ही है

 जहां रोबोट का शुरू किया गया जहां रोबोट किस तरह इंसान की तरह सोचता है और काम करता है और हम जानेंगे कि ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )का उपयोग कहां किया जाता है

 ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )की लोकप्रियता बढ़ी ही जोरों शोरों से बढ़ती जा रही है और आज यह एक ऐसा विषय बन गया है जिसकी टेक्नोलॉजी और बिजनेस के क्षेत्रों में काफी चर्चा हो रही है I

कई विशेषज्ञों और एनालिसिस का मानना है कि मशीन लर्निंग और ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )हमारा भविष्य है लेकिन अगर हम अपने चारों तरफ देखें तो हम पाएंगे कि यह हमारा भविष्य नहीं बल्कि वर्तमान है टेक्नोलॉजी के विकास के साथ आज हम किसी ना किसी तरह से आई से जुड़े हुए हैं और इसका इस्तेमाल भी कर रहे हैं I

हाल ही में कई कंपनियों ने मशीन लर्निंग पर काफी निवेश किया है इसके कारण कई एप्स और भी प्रोडक्ट लांच हुए हैं 

EXAMPLE OF (ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ) 

नंबर 1 आपने एप्पल फोन तो देखा ही होगा इसकी सबसे लोकप्रिय पर्सनल असिस्टेंट के बारे में जरूर सुना होगा श्री एआई का सबसे बेहतरीन उदाहरण है इससे आप बहुत सारी उदाहरण बहुत सारी चीजें हैं जो पहले आप टाइप करते थे कि मैसेज टाइप करना कोई एप्लीकेशन को ओपन करना कॉल करना ऐसे ही आपकी भाषा और सवालों को समझने के लिए मशीन टेक्नोलॉजी का उपयोग करती है

 गूगल असिस्टेंट है जो की तरह काम करती है लेकिन में टेक्नॉलजी का इस्तेमाल होता है और हमें सही रास्ता बताने के लिए इस्तेमाल करती है और हमें सही रूप बताने में मदद करती प्रोडक्ट लॉन्च किया जा सकता है और बता सकता है Kisi bhi sport ka upyog स्कोप हॉस्पिटल लेकर आ सकता है 

नंबर 4 ARTIFICIAL INTELLIGENCE (ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ))  का इस्तेमाल सिर्फ इस स्मार्टफोन में ही नहीं बल्कि ऑटोमोबिल के क्षेत्र में भी इसका बहुत ज्यादा उपयोग किया जा रहा है 

अगर आप car पसंद करते हैं तो आपको टेस्ला कार की जानकारी जरूर होगी यह कार अब तक उपलब्ध सबसे बेहतरीन कारों में से है टेस्ला कार से जुड़ने के बाद इसमें self ड्राइविंग जैसे फीचर्स उपलब्ध है ऐसे ही ना जाने कितने से सारी self ड्राइविंग कार बन रही है जो आने वाले वक्त में और स्मार्ट हो जाएंगी I 

मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री में भी बहुत जोरों से हो रहा है पहले जिस काम को करने के लिए सैकड़ों लोग लगते थे वही आज मशीन की मदद से वही काम बहुत जल्दी और बहुत कम Man Power में हो जा रहा है

 वीडियो गेम्स में भी यह की झलक मिलती है जैसे कई सारे गेम्स में आपको कंप्यूटर से खेलना होता है जैसे कि chabda इलावा स्पीच रिकग्निशन रोबोटिक फाइनेंस दोस्तों 

ARTIFICIAL INTELLEGENCE KI क्या फायदे हैं?

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )error को कम करता है और अधिक सटीकता से काम करने के साथ ही प्रोडक्शन बढ़ जाता है 

नंबर दो ARTIFICIAL INTELLIGENCE (ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )) का उपयोग करने से तेजी से निर्णय लेने और जल्दी से कार्य करने में सहयोग मिलता है 

नंबर तीन -मनुष्यों की विपरीत मशीन में लगातार आराम और रिप्लेसमेंट की आवश्यकता नहीं होती है वह लंबे समय तक काम करने के लिए काबिल होते ना ही उन्हें विचलित होते और ना ही सकते हैं

 नंबर 4 – ARTIFICIAL INTELLIGENCE (ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )) की मदद से संचार रक्षा स्वास्थ्य आपदा प्रबंधन और कृषि आदि क्षेत्रों में बड़ा बदलाव आ सकता है 

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )ke demerit kya है

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )
ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )

 नंबर 1 इंटेलिजेंट अभी बहुत स्पष्ट नहीं है लेकिन छात्रों को लेकर जा सकता है काम कर लिया गया तो मनुष्य के लिए खतरा हो सकता है विशेषज्ञों का कहना है कि सोचने लगे हो सकता है की आवश्यकता होती है 

ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )से हमें जो सुविधाएं मिल रही है या आने वाले समय में उसका मनुष्य पर कैसा असर होने वाला है 

इसके बारे में आप क्या सोचते हैं अपनी राय आप हमें कमेंट में जरूर बताएं आशा करता हूं कि आप को इस article से ARTIFICIAL INTELLIGENCE (ARTIFICIAL INTELLIGENCE (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस )) क्या है, इसका उपयोग कहां हो रहा है ,उसकी क्या फायदे हैं और उसी क्या नुकसान है इससे जुड़ी सारी जानकारी मिल गई होगी I

मेरी हमेशा यही कोशिश रहती है आपको nahi nahi टेक्नोलॉजी और नए जानकारियों से अवगत कराता रहा हूं