BETWEEN ARTICLE

Urgent opening in Lnt Constructions for Manager / Asst. Manager / Senior Engineer – QA/QC for High Speed Bullet train project

images28529 1

Urgent opening for Manager / Asst. Manager / Senior Engineer – QA/QC for High Speed Bullet train project

Location:

Vapi to Baroda, Gujarat

Qualification :

B.E / Diploma – Civil (Full time)

Experience :

Minimum experience of 5 Years in Quality works in Metro / Viaduct / Elevated / Bridges / Infrastructure projects.

How to apply in lnt construction Recruitment in HIGH SPEED RAIL Project

If your profile suits the above requirement kindly share your updated resume at

abilash-kumar@lntecc.com / gowtham.r@lntecc.com.

Relevant profiles will be shortlisted & will be called for interview accordingly.

Mention Subject : QA / QC – HSR

The Mumbai-Ahmedabad High Speed Rail Project is 508 km long. Out of 508 km, 352 km is located in Gujarat (348 km) and Dadra and Nagar Haveli (4 km) and the remaining 156 km is in the state of Maharashtra.

Heaviest PSC Box Girder to be installed in High-Speed Rail Corridor

The 40 meter span PSC box girder weighs approximately 970 metric tons, which will be the heaviest PSC box girder in the construction industry of India. 40 m span girder is being cast as single piece i.e. without any construction joints, consisting of 390 m3 concrete and 42 metric tonnes of steel.

To expedite the construction of the viaduct, the substructure and superstructure have been constructed in parallel. The work of substructure i.e. pile, pile cap, pier and pier cap is in progress. For superstructures, a casting yard with alignment has been developed to cast full span girders and segmental girders so that they can be launched using heavy machines on cast pier caps.

Full span girder is preferred over segmental girder.
Most of the girders for the superstructure will be of full span of 30, 35 and 40 meters. However, for those places where the site is lacking. Segmental launching of precast segments will be used. Full span girder is preferred over segmental girder as full span girder launching progress is seven times faster than segmental girder launching.

23 casting yards being developed
23 casting yards are being developed along with alignment for casting of girders. Each casting yard is spread over an area of 16 to 93 acres as per requirement and is located adjacent to high-speed rail alignment. Facilities like jigs for making rebar cages, hydraulically operated pre-fabricated molds with hydraulically operated pre-fabricated moulds, batching plant, aggregate stacking area, cement silo, quality laboratory and workman camp for speedy casting of girders with quality have been developed.

Bridge launching gantry to launch 3-4 box girders
The full span pre-cast box girders will be launched using heavy machinery like straddle carrier, bridge launching gantry, girder transporter and launching gantry. To ensure continuous supply of girders for launching, the casting of box girders will be done in advance at the casting yard and will be stacked in a systematic manner.

The straddle carrier will lift the box girder from the stacking yard and feed it to the bridge launching gantry, which will raise the box girder and place the girder over the bearings on the pier cap. The bridge launching gantry will first launch 3-4 box girders on which the girder transporter will be placed and the launching of the girders will continue in a sequential manner using the girder transporter and launching gantry.

The casting yard and heavy machinery for launching are planned in such a way as to meet the peak requirement of about 300 full span box girder casting and launching, which is about 12 kms of superstructure casting and erection in a month. Is equal.

Mumbai-Ahmedabad High Speed Rail Project is 508 km long

The Mumbai-Ahmedabad High Speed Rail Project (MAHSR) is 508 km long. Out of 508 km, 352 km is located in the state of Gujarat (348 km) and Dadra and Nagar Haveli (4 km) and the remaining 156 km is in the state of Maharashtra. M/s L&T is the executive agency for the length of 325 km, out of 352 km. They have been given the contract for two packages i.e. C4 (237Km) and C6 (88Km).

What will be the benefit to the common man

The Mumbai-Ahmedabad High Speed Rail Project will definitely prove to be very beneficial for the common man. Thousands of people will get employment through this rail project. Apart from this, after the project is ready, the areas around the railway station will be developed, which will also increase the business activities in those areas. After the completion of this project, the biggest benefit will be to those people who know the value of time. With the help of high speed rail, people will save a lot of time in commuting Mumbai-Ahmedabad-Mumbai.

मुंबई अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का पहला पियर का कार्य प्रारंभ हुआ

Modi की महत्वकांक्षी मुंबई अहमदाबाद, बुलेट ट्रेन परियोजना के काम में कोरोना की में पढ़ते हैं। रफ्तार पकड़ ली है बारिश के दौरान भी काम चालू 508 किलोमीटर लंबे इस प्रोजेक्ट से उन्नीस सौ लोग काम में लगे हुए हैं। नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड, मुंबई, अहमदाबाद, हाई स्पीड रेल कॉरिडोर पर गुजरात में वापी के पास चैनल 167 पर पहला फुल हाइट वाला पियर बनाकर अपने निर्माण कार्य में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। महाराष्ट्र के दादर और नगर हवेली और गुजरात को जोड़ने वाले 12 स्टेशनों से होकर गुजरेगा। इस कॉरिडोर पर पियर की औसत ऊंचाई भारत से 15 मीटर और इस जालीदार पियर की ऊंचाई 13.05 मीटर जो करीब 4 मंजिला इमारत के बराबर पियर 183 घर में दर्द उठना।

और 18.82 मीटर कम्स इन की ढलाई की गई है इसके प्रमुख निर्माण कार्य कोरोना, महामारी और चल रहे मानसून के मौसम की वजह से नेमावर और अन्य रतन चुनौतियों की भारी कमी के बावजूद किया जा रहा है। आने वाले महीनों में पहले हाई स्पीड रेल कॉरिडोर का मार्ग प्रशस्त करने के लिए आईपीएस बनाने की योजना सूरत में बुलेट ट्रेन हाई स्पीड कॉरिडोर के 57 किलोमीटर सेक्शन पर एलाइनमेंट बनने लगा है। वलसाड से सूरत के बीच करीब साडे 300 हेवी मशीन है। काम में लगी हुई है इस मशीन सूरत जिले के अंदर काम कर रही है। सर्वे का काम पूरा कर लिया गया है अब सिविल वर्क चल रहा है। एक अधिकारी ने बताया कि सूरत के अमरोली गांव के बीच 8 किलोमीटर के कॉरिडोर एलाइनमेंट को तैयार कर लिया गया है। साथ ही यहां पर 120 पायल वर्ष पूरे कर लिए गए हैं। अगले महीने से जमीन के ऊपर तिलक।

शुरू हो जाएंगे अतरौली गांव में बुलेट ट्रेन स्थाई कार्यालय बनाया गया है बुलेट ट्रेन का वापी से बड़ोदरा तक के 237 किलोमीटर रूट में आता है। इस पैकेज में शामिल किया गया है। इस रूट में वापी बिलिमोरा सूरत और भरूच में बुलेट ट्रेन के स्टेशन बनाए जाएंगे। सूरत में दीपक चौधरी क्रॉसिंग, क्रॉसिंग और रेलवे सुरंग बनाई जाएंगी और बड़ोदरा के बीच तारीख300 मीटर लंबी पहाड़ी सुरंग का निर्माण किया जाएगा। मुंबई बुलेट ट्रेन कॉरिडोर का रूट आकार लेने लगा तो वहीं दूसरी तरफ तीन नर्मदा समेत कई नदियों पर ब्रिज बनाने के लिए सिंह का काम भी शुरू कर दिया गया है जो इन टेस्टिंग सबसे पहले वापी के पास दमन गंगा नदी में शुरू की गई है। बुलेट ट्रेन के ब्रिज बनाने से पहले जहां स्वर।

स्मार्ट में सूरत में ताप्ती नदी वडोदरा में विश्वमित्री नदी भरूच में नर्मदा नदी चरणबद्ध तरीके से जयपुर योजना का 47 फ़ीसदी हिस्सा इसके लिए 19 अक्टूबर 2020 को टेक्निकल बिड खोली थी नवंबर को कॉन्ट्रैक्ट शुरू हुआ और 4 साल में काम पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया। अक्टूबर 2024 तक 237 किलोमीटर रूट तैयार करना है। गुजरात में अब तक 1396 है जमीन में से 1035 हेक्टेयर जमीन मिल चुकी है। आपको बता दें कि एनएचएसआरसीएल मुंबई और अहमदाबाद के बीच भारत का पहला हाई स्पीड रेल कॉरीडोर वाली कार्यकारी एजेंसी है