BETWEEN ARTICLE

If someone is earning Rs 50,000 per month then how should he manage his income for a secure future?

calculator calculation insurance finance 53621

If someone is earning Rs 50,000 per month then how should he manage his income for a secure future?

For the convenience of the answer, let me assume that ₹ 50000 a month will be his cash salary. Cash salary means the amount deposited in the bank as salary.

If a person finds ₹ 50000 cash salary in the bank then he should keep these things in mind to manage his income for a secure future.

Earning around ₹600000 every year after deducting all kinds of expenses, you will be left with some 360000. Also, an increase in salary at the rate of 10% will also have to be considered and the amount of expenditure and savings will also have to be increased in the same proportion.

What is your list of financial needs for the coming 5 to 10 years.

According to this list, how much money will you need from year to year.

The financial requirements for the coming 5 to 10 years should be combined in such a way that it does not exceed your income.

Be prepared to take a loan for any major financial need as well as deduct savings to pay off its installments.

Such a big need can be some needs like buying a house, buying a car or getting big furniture work done at home.

After this, it would be appropriate for you to examine and understand the various investment options.

There are a plethora of investment options in the market which include high, medium and low level of risk as well as zero risk options.

Apart from this, the liability of income tax on the return on all these investments can also be a major issue which will play a big role in your decision making.

Like fixed deposit in bank and investment in Public Provident Fund is without any risk. But investment in Public Provident Fund is available with a locking period of 15 years as well as income tax exemption on the interest earned in it.

Investments in Mutual Funds, National Pension Scheme and Primary Stock Market are available with medium sized joking.

Trading futures options and derivatives in the stock market is a high risk investment.

Apart from this, investing in real estate or investing in gold or jewelery is also a good option.

Bonds of the Reserve Bank and fixed deposit schemes of government companies are also good options.

I believe that a man should not put all his eggs in one basket or there is a popular saying which means that a person who saves financially should not put all his investment in one scheme. Therefore, according to your financial need, you should invest in different pieces and in different investment options so that the risk is divided.

In conclusion, I want to say that you have to make your own combination between your income, your expenses and your savings. If you are not able to make room for savings between income and expenses, then it is your own responsibility for this too. Apart from this, if you are able to save more than expected then it is a positive message for you. At the same time, my advice would be to divide your investments into four types of investment options with a balanced portfolio. i want to say that

Make sure to invest in Public Provident Fund.

Fixed deposits have the lowest percentage of interest so try this option last.

Do not invest directly in the stock market, at least until you have gained good experience in the stock market. Therefore, invest in the stock market through National Pension Scheme or Mutual Fund.

Stay away from futures options and derivatives trading at all.

Investment in National Pension Scheme is available to you to get exemption in addition to Section 80C exemption. But the maximum investment cannot exceed 50,000 per annum.

There are tax free and tax responsible investment options in the market for investing in Mutual Funds but I find tax free options more appropriate.

If you plan to invest for the long term, then you can choose to invest in real estate and gold.

If you are interested to invest in gold then you should invest in online gold and not jewellery. Gold jewelery involves 25 to 30 percent making charge from the price of gold which is purely a loss while selling.

Finally, if you want to invest any amount for a very short tenure, then you should invest in a fixed deposit as the maximum interest you can get on a fixed deposit of up to 1 year is 6.5 percent per annum.

यहां पैसे लगाओ एफडी से ज्यादा फायदा होगा?

बैंक का इंटरेस्ट रेट देखते हैं और करते हैं और अब तक तो बैंक से मेल या चिट्ठी भी आ चुकी होगी कि एसडीओ रिकरिंग डिपॉजिट पर जो इंट्रेस्ट मिलेगा उसमें से 20% टैक्स काटकर ही बैंक सरकार के पास जमा कर देगा। यानी टीवीएस का रेट बढ़ गया। आप इस से बच सकते हैं लेकिन एक नई कसरत तो हो ही गई एक ऐसा नुस्खा या इंस्ट्रूमेंट के मुकाबले ज्यादा कमाई भी देता है और जिसने शेयरों के मुकाबले जोखिम कम होता है, इसका नाम है एलसीडी या non-convertible एडवेंचर हिंदी में अपरिवर्तनीय ऋण पत्र नहीं समझे तो यूं समझ लीजिए कि कंपनी आपसे कर लेती है। डिवेंचर दो किस्म के होते हैं परिवर्तन!

पहले यह बता दूं कि कन्वर्टिबल का मतलब क्या है यहां आपसे कंपनी जो कर लेती है उस पर कुछ समय तो ब्याज भर्ती है लेकिन बाद में यह पूरा डिवेंचर यह इसका कुछ कंपनी के शेयरों में बदल दिया जाता है या नहीं, आपने जो कर दिया कंपनी उसे चुकाने के बजाय आपको कंपनी का हिस्सेदार बना देती है। अगर पूरे डिनर हो गया। पूरा डिवेंचर शहर में बदल गया। वह कहलाता है फुल्ली कन्वर्टिबल देबेंचर्स और अगर पूरे का नहीं है। कुछ पैसा आपको वापस मिल ना यार कुछ बदल जाएगा तो वहीं कन्वर्ट 1 डिग्री होती है। उसका नाम है। ऑप्शनली कन्वर्ट करें या ना करें कभी-कभी कंपनी की इच्छा पर भी हो सकता है लेकिन वह अलग कहानी है, उसको कभी और करेंगे। अभी बात हो रही है एमसीडी ने उस दिन से कि जिस पर कंपनी आपको ब्याज देती है और।

पूरी रकम वापस कर देती

इस समय पर मंथली क्वार्टर ली ईयर ली या बिल्कुल आखिर में पूरी रकम के साथ फाइनेंस का 87 महीनों की मियाद है। यानी आप जब जिस दिन पैसा लगाएंगे जिस दिन इस उपलब्ध होगा उस दिन से 87 महीने के बाद आपको पैसा वापस मिलेगा। पूरा और कंपनी इस पर 10 परसेंट ब्याज दे रही है वह बाजार से 1000 करोड़ रुपए उठाने की तैयारी में है। 28 जुलाई तक लगा सकते हैं, लेकिन अभी तो कंपनी में हो सकता है। क्यों पहले भी बंद कर दे इसी धंधे की दूसरी कंपनी पिरामल कैपिटल एनसीडी इश्यू 12 जुलाई से 23 जुलाई तक खुलेगा। वहां भी कंपनी की सोच रही है ब्याज की दर 8 पॉइंट 99% तक ही रहेगी।

जबकि हल्का अनसिक्योर्ड आई आई एफ एल का अंश का मतलब है कि कंपनी ने अपनी संपत्ति का कुछ हिस्सा के सामने सिक्योरिटी के तौर पर इसी पर की वजह से आपको दोनों कंपनियों के ब्याज में भी फर्क दिख रहा है उसे क्यों सर का इंटरेस्ट रेट कम है, अनसिक्योर्ड का ज्यादा है और यही नहीं है अभी यस बैंक का कंपनी, सीजीपीएल जुआरी, ग्लोबल टाटा मोटर्स, श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस, बजाज फाइनेंस और एसबीआई कार्ड जैसी कंपनियां एमसीडी के बाजार में आ रही हो। अगर आपके पास लगाने लायक पैसा है। खाली पड़ा है जो आप काफी समय तक के लिए छोड़ सकते हैं तो आप ही ने उसको देखते हैं। ध्यान रखिएगा मैं लगा सकते हैं नहीं कर सकते हैं क्योंकि सलाहकारों की राई यह होती है कि छोटे निवेशकों को एनसीडी से दूर ही रहना चाहिए। खासकर अगर आपको बीच में रकम की जरूरत पड़ गई।

अगर आप सिर्फ ऊंचा ब्याज देखकर पैसा लगा देते हैं तो आप कमजोर कंपनी में फंस सकते हैं। यूनाइटेड स्टेट्स। एक रिलायंस होम फाइनेंस का है रिलायंस होम फाइनेंस एनसीडी पर भुगतान नहीं कर पाया। एनसीएलटी के बाद लोग शिकायत लेकर गए और एनसीपी ने कंपनी को निर्देश दिया है कि अगले 5 महीनों में 19000 डिवेंचर धारकों को पैसे देने का इंतजाम करें। ऐसा दूसरा मामला है डीएचएफएल देवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड आपको पता होगा दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड एनसीएलटी में जाने के बाद पिरामल कैपिटल एंड हाउसिंग में खरीदा है और उसमें जो कर दें। उन्होंने दे रखे थे काफी कर्ज में डूबी हुई थी, उस कण पर भारी हेयरकट हुआ है और उसमें वह क्या है कि जो रिटेल के लोग कंपनी अपनी में पैसा लगाते हैं वहां भी इस तरह की कंपनियां बहुत मोटा ब्याज कैसे लगाते हैं और एमसीडी में भी ऐसा ही हुआ और इन लोगों का पैसा लगा हुआ था।

उसमें जो अब जिन लोगों ने इसको लिया है कि कॉल किया है कर्ज एक और कंपनी को अब एचडी वालों को और एमसीडी होल्डर्स को पूरा पैसा देने को तैयार नहीं है। हालत यह है कि एमसीडी पर उन्होंने तय किया है कि आपका जो पैसा बनता है उसका 5 परसेंट दिया जाएगा या नहीं। 95 परसेंट दबाव पड़ रहा है। वह लोग कह रहे हैं 40 परसेंट तो दीजिए कम से कम लेकिन उनके जो कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स है, वह मान नहीं रही है कि मामला अभी एनसीआरटी में चेंज हो सकता है यह मामला और आगे कानूनी लड़ाई में चला जाए तो यह खतरा कनवर्टर कनवर्टर के साथ रहता है जो शेर के साथ रहता है। कंपनी का धंधा खराब हो गया। कंपनी डूब सकता है इस वजह से मैंने आपको बताया था।

शेरों के मुकाबले कांग्रेस के जैसे उसी कंपनी के शेयर पूरी तरह गायब कर दिया जाए। एनसीडी होल्डर को 5:00 पर्सेंट दिया जा रहा है। आप कह सकते हैं ऊंट के मुंह में जीरा लेकिन कुछ तो मिल रहा है कायदे से पूरा मिलना चाहिए तो मिलना चाहिए और इस मांग को लेकर

क्या फैसला होगा कब होगा यह एक लंबी कहानी है और इसी वजह से इसकी वजह से लोग कहते हैं कि एलसीडी से दूर रहना चाहिए लेकिन कम ब्याज देती हैं जिनके नामnon-convertible आपको पूरे भरोसे के साथ लोग पैसा लगाते हैं उनमें कुछ कंपनियों के सो जा रहे हैं जब आएंगे आप की क्रेडिट रेटिंग देखनी होगी। जैसे अभी कुछ समय पहले वो कार्ड कैंडी आया था। 12 परसेंट से ऊपर भेज दे रहा था लेकिन क्रेडिट रेटिंग थी तो कमजोर क्रेडिट रेटिंग थी। अगर ट्रिपल ए प्लस प्लस क्रेडिट रेटिंग वाले डिवेंचर आपके सामने आते हैं तो उन पर आपको विचार करना चाहिए लेकिन बाकी अपनी परिस्थितियों पर विचार करना ज्यादा जरूरी है। वह ध्यान जरूर रखिएगा और भरोसेमंद इन्वेस्टमेंट एडवाइजर की सलाह लेना