क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING) kya hai ? iske application ,type and career ?

क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)

87 / 100

INTRODUCTION OF कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)

तो दोस्तों आज के आर्टिकल में हम चर्चा करने वाले हैं क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING) के बारे में क्योंकि यह एक बहुत ही अच्छी टेक्नोलॉजी है और इस पर कैरियर बनाने के बाद काफी अच्छा फ्यूचर हो सकता है और मैं अपनी वेबसाइट technicalviru.in पर इस तरह की जानकारी भरे और career से रिलेटेड आर्टिकल लिखता रहता हूं

तो चलिए दोस्तों शुरुआत करते हैं और क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING) के बारे में पूरी जानकारी लेते हैं लास्ट में मैं यह भी बताऊंगा कि क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)के बारे में आप कहां से कोर्स कर सकते हैं और इन कोर्स को करने के बाद आपको क्या कैरियर मिलेगा और इंडिया में इसका क्या फ्यूचर है?

What is 4K ?

simplilearn data science masters program review II simplilearn data science reviews II simplilearn data science cost

 हो सकता है कि क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)का नाम आपने सुना हो और उसका यूज़ भी करते हो और यह भी हो सकता है कि अभी तक आपको क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)के बारे में प्रॉपर और सही जानकारी प्राप्त ना हुई हो

ऐसा भी हो सकता है कि आपको लगता होगा कि आपने कभी क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)का यूज किया ही नहीं हो मगर ऐसा कुछ नहीं है क्योंकि आपने किसी न किसी तरीके से क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)का यूज किया है अगर आप इंटरनेट का यूज कर रहे हैं ईमेल सेंड करते हैं ऑनलाइन डॉक्यूमेंट को एडिट करते हैं या फिर वीडियोस देखने हैं तो आप क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)का उपयोग कर रहे हैं

 आज के दिन चाहे छोटे से छोटा बिजनेस स्टार्ट अप हो या बड़ी से बड़ी कंपनियां सभी क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)का यूज कर रही हैं तो ऐसे में अगर आप समझना रहे हैं यह आर्टिकल आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है क्योंकि टेक्निकल वेबसाइट पर आपको क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण और बहुत ही खास जानकारियां प्राप्त होने वाली है

 शुरुआत करते हैं और सबसे पहले जानने की कोशिश करते हैं कि क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)क्या होती है आप जब भी मोबाइल में को तो उसे किसी फोल्डर पर सेव करते हैं और जब हम अपना फोन और कंप्यूटर चेंज कर लेते हैं

 तो उस फाइल को नहीं ढूंढ पाते हैं इस प्रॉब्लम का सलूशन क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)सर्विस देती है जो कि डाटा को स्टोर करने के लिए इस्तेमाल की जाती है क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)कंप्यूटिंग सर्विसेज को डिलीवरी देने वाली एक प्रोग्रामिंग होती है जिसमें सर्वर स्टोरेज डेटाबेस और नेटवर्किंग सॉफ्टवेयर एनालिटिक और इंटेलिजेंट शामिल है

यह सारे सर्विस इंटरनेट के जरिए अवेलेबल हो पाती है तो यहां पर क्लाउड का मतलब इंटरनेट से क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)को एक ऐसे स्टोरेज के रूप में भी समझा जा सकता है जिसे हम कहीं भी कभी भी यूज कर सकते हैं इसमें आप अपनी फाइल को ऑनलाइन एडिट कर सकते हैं

किसी भी साइज की फाइल को ऑनलाइन शेयर कर सकते हैं और गूगल ड्राइव जैसे प्रोवाइडर यह सर्विस फ्री में प्रोवाइड करते हैं क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)सर्विस का इस्तेमाल करना बहुत ही इजी और सिक्योर माना जाता है और इकोनामिक भी होता है क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)एक ऐसा मॉडल होता है जो इंटरनेट की मदद से डाटा को ऑनलाइन मैनेज स्टोर और प्रोसेस करता है

 आइए हम इसे एक एग्जांपल से समझते हैं मान लीजिए कि आपने कोई फाइल बनाई जैसे की ऑडियो फाइल या फिर वीडियो फाइल एमएस वर्ड एक्सल फाइल किसी भी प्रकार की फाइल हो सकती है और लैपटॉप में सेव कर दिया यह फाइल पीके हो गई अगर आपको कहीं बाहर जाना है और उसकी जरूरत है तो इसके लिए आपको किसी पेनड्राइव की आवश्यकता पड़ेगी जिसके लिए आप उस डाटा को कॉपी करना पड़ेगा लेकिन अगर आप क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)का यूज कर रहे हैं

तो आपको किसी भी प्रकार के एक्सटर्नल हार्डवेयर स्टोरेज डिवाइस की आवश्यकता नहीं पड़ेगी आपके पास केवल इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए तो आप अपने डाटा को बड़े ही आसानी से गूगल ड्राइव या ड्रॉपबॉक्स जैसे क्लाउड सर्विस की मदद से कहीं से भी एक्सेस कर सकते हैं वह भी बिना किसी हार्डवेयर स्टोरेज डिवाइस की मदद से

 इसकी एक और बेहतरीन उपयोग यह होता है कि अगर आपका कंप्यूटर या फिर पेन ड्राइव डैमेज खराब हो जाती है तो आप क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)की मदद से अपने डाटा को स्टोर कर सके बैकअप ले सकते हैं क्योंकि आपका डाटा ऑलरेडी इंटरनेट पर गूगल ड्राइव और ड्रॉपबॉक्स जैसी क्लाउड स्टोरेज सर्विस पर सेव रहता है

 क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)के एग्जांपल

 तो चलिए अब मैं आपको कुछ एग्जांपल देता हूं जिसके जरिए आपको क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)को समझना और भी आसान हो जाता है

 गूगल ड्राइव

ड्रॉपबॉक्स

फेसबुक

जीमेल

पिकासा

हॉटस्पॉट

सेलस्फोर्स मार्केटिंग क्लाउड

गूगल डॉक्स

अमेजॉन वेब सर्विसेज

रॉकेट फ्लाइट

आईबीएम क्लाउड

आजकल हर कोई ट्रेडिशनल को छोड़कर क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)की तरफ काफी तेजी से बढ़ रहा है क्योंकि क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)बहुत सारे बेनिफिट देती है

 बेनिफिट्स ऑफ क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)

 इजी टू यूज़ -क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING) यूज करने में बहुत ही आसान होता है क्लाउड कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)को यूज करना बहुत ही आसान होता है और इसे कभी भी कहीं भी किया जा सकता है अपने फोन कंप्यूटर टेबलेट यूज़ किया जा सकता है

 कॉस्ट

– पोस्ट की बात की जाए तो क्लाउड कंप्यूटिंग की कॉस्ट बहुत ही चीज होती है सस्ती होती है क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेस को यूज करने वाली कंपनियों को हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर परचेज करने की आवश्यकता नहीं होती है बल्कि कंपनी क्लाउड कंप्यूटिंग पर स्टोरेज लेकर फाइल को एक्सेस कर सकती है और अपना बिजनेस बहुत ही कम खर्चे में चला सकती है इस सर्वश्रेष्ठ के जितने रिसोर्सेस का इस्तेमाल एक्यूजर करता है उसने बहुत ही कम दाम में यह सर्विसेस प्राप्त हो जाती है

 स्पीड-

क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विस की स्पीड बहुत ही फास्ट होती है यानी कि कुछ ही क्लिक्स में आप बड़ी से बड़ी फाइल को एक्सेस कर सकते हैं जिसने बिजनेस को काफी तेजी से आगे बढ़ाए जा सकता है

 परफॉर्मेंस-

क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज के परफॉर्मेंस की बात की जाए तो यह सर्विस बहुत ही सिक्योर होती है और हमेशा अपडेट होती रहती है जिससे इनकी परफॉर्मेंस हर बार बेहतर होती रहती है

 रिलायबिलिटी-

अगर क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विस की बात की जाए तो क्लाउड कंप्यूटिंग डाटा बैकअप और डिजास्टर सर्विसेस को बहुत ही आसान बनाती है इसलिए कहा जाता है जहां तक सिक्योरिटी की बात है तो बहुत से क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर यूजर्स को सिक्योरिटी और ऑनलाइन एक्सेस का प्राइवेट मॉडल प्रोवाइड करते हैं जिससे यूजर को डाटा ऐप और इंटरनेट से होने वाले रेड से बचाने में काफी सहायता मिलती है

 तो दोस्तों अभी तक आप क्लाउड कंप्यूटिंग के बेनिफिट पढ़ रहे थे अब जानने की कोशिश करेंगे की क्लाउड कंप्यूटिंग के कितने प्रकार होते हैं व्हाट आर द टाइप्स ऑफ क्लाउड कंप्यूटिंग?

 एक ही प्रकार की सर्वश्रेष्ठ अभी तक सही नहीं होती है प्रकार क्लाउड कंप्यूटिंग में भी एक ही प्रकार की क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज को सेफ नहीं माना जाता है अलग-अलग यूजर्स के लिए और क्लाइंट के लिए उनके डाटा को ज्यादा प्राइवेट और सिक्योर करने के लिए अलग-अलग प्रकार के क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज होती है

  और इस प्रकार के अलग-अलग टाइप्स में से यूजर अपने हिसाब से क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज को यूज कर सकता है इसलिए क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज के टाइप्स को जानना बहुत जरूरी है चलिए जानते हैं

क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज के कौन-कौन से टाइप है?

 क्लाउड लोकेशन के आधार पर क्लाउड कंप्यूटिंग के चार प्रकार होते हैं

 पब्लिक क्लाउड-

इस तरह के क्लास थर्ड पार्टी क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर के द्वारा ऑपरेट किए जाते हैं जो सर्वर और स्टोरेज जैसी सर्विसेज इंटरनेट के थ्रू अब लेवल करवाते हैं इस प्रकार की सर्विस में सभी प्रकार के हार्डवेयर सॉफ्टवेयर और इंफ्रास्ट्रक्चर क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर के द्वारा ही मैनेज किया जाता है यूसी ब्राउजर का यूज करके उनकी सर्विस इसको ले सकते हैं और अपना अकाउंट मैनेज कर सकते हैं माइक्रोसॉफ्ट अजूबे पब्लिक क्लाउड का एक एग्जांपल है

 प्राइवेट क्लाउड-

इस प्रकार का क्लाउड किसी बिजनेस या ऑर्गेनाइजेशन के लिए होता है और यह कंपनी के डाटा सेंटर पर भी लोकेट किया जा सकता है और इसे थर्ड पार्टी क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर के द्वारा मैनेज भी करवाया जा सकता है इस प्रकार के क्लाउड्स में डाटा स्टोरेज और इंफ्रास्ट्रक्चर को कंपनी के प्राइवेट टैक्स डाटा सर्वर पर मैनेज किया जाता है

 कम्युनिटी क्लाउड-

इस प्रकार की क्लाउड कंप्यूटिंग ऐसे ऑर्गनाइजेशन के बीच में शेयर होती है जिनके कॉमन बोल सोते हैं और जो मिलकर के कम्युनिटी बनाती है उस कम्युनिटी के मेंबर ही इस सर्विस का यूज कर सकते हैं

 हाइब्रिड क्लाउड-

हाइब्रिड क्लाउड पब्लिक और प्राइवेट क्लाउड का कॉन्बिनेशन होते हैं इस तरह के क्लाउड कंप्यूटिंग में डाटा और एप्लीकेशन प्राइवेट और पब्लिक क्लाउड्स के बीच में मुंह की जाती है और ऐसी फैसिलिटी देने वाले हाइब्रिड क्लाउड का यूज करने से बिजनेस को ज्यादा फ्लैक्सिबिलिटी ज्यादा डेवलपमेंट ऑप्शन मिलते हैं साथ ही बिजनेस के इंफ्रास्ट्रक्चर और सिक्योरिटी को ऑप्टिमाइज करना भी पॉसिबल हो पाता है तो क्लाउड के टाइप जानने के बाद में अब जानने की कोशिश करते हैं क्लाउड सर्विसेज के तीन डिलीवरी मॉडल के बारे में

 क्लाउड सर्विसेज के डिलीवरी मॉडल

 इंफ्रास्ट्रक्चर AS A सर्विस यानी कि IAAS-

यह क्लाउड कंप्यूटिंग की सबसे बेसिक कैटेगरी है इसमें यूजर प्रोवाइडर से अपनी जरूरत के अनुसार सर अवशेष को रेंट पर ले सकता है इन रिसोर्ट में डाटा स्टोरेज विजुलाइजेशन और नेटवर्किंग शामिल है

 सॉफ्टवेयर एस ए सर्विस SAAS-

इस प्रकार की सर्विस ऑन डिमांड एप्लीकेशन सर्विसेज अवेलेबल करवाती है इसमें यूजर को अपने कंप्यूटर पर सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करने की जरूरत नहीं पड़ती है और इसकी कॉस्ट भी बहुत कम होती है

प्लेटफॉर्म AS A सर्विस PAAS-

यह सर्विस सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन को डेवलप टेस्ट और डिलीवर करने के लिए ऑन डिमांड एनवायरमेंट सप्लाई करती है यह सर्विस वेब और मोबाइल एप्स को वीकली क्रिएट करने के लिए डिजाइन की गई है 

इसी के साथ क्लाउड कंप्यूटिंग में क्लाउड प्रोवाइडर क्लाउड कंप्यूटिंग में सारी फैसिलिटी भी दे सकते हैं 

application of cloud computing

क्रिएट cloud-native एप्लीकेशन 

स्टोर बैकअप एंड रिकवर डाटा

 स्ट्रीम ऑडियो एंड वीडियो

 डिलीवर सॉफ्टवेयर ऑन डिमांड

 एनालाइज डाटा 

टेस्ट एंड बिल्ड एप्लीकेशन 

क्लाउड कंप्यूटिंग के डिश एडवांटेज-

 क्लाउड कंप्यूटिंग के डिस एडवांटेज की बात की जाए तो यह सर्विसेज पूरी तरह से इंटरनेट पर आधारित है अगर आपके पास इंटरनेट है तभी आप क्लाउड कंप्यूटिंग सर्विसेज को यूज कर सकते हैं अदर वाइज इसे यूज नहीं किया जा सकता है

Career in कंप्यूटिंग (CLOUD COMPUTING)

laughing businesswoman working in office with laptop
Photo by Andrea Piacquadio on Pexels.com

तो दोस्तों अगर क्लाउड कंप्यूटिंग में आप कैरियर बनाना चाह रहे हैं तो आगे आने वाले दिनों में क्लाउड कंप्यूटिंग स्किन को सीख कर आप न केवल इंडिया में बल्कि इंटरनेशनल मार्केट में भी काफी अच्छा जॉब और कैरियर बना सकते हैं

 जैसा कि आप सब लोग जानते हैं कि इंडिया में आज की डेट में छोटे से छोटे और बड़े से बड़े बिजनेसमैन डिजिटल टेक्नोलॉजी का यूज करते हैं और जो लोग नहीं करते हैं वह भी अपने बिजनेस को ऑफलाइन की जगह ऑनलाइन लाने की कोशिश कर रहे हैं इसकी वजह से क्लाउड कंप्यूटिंग में काफी अच्छा कैरियर बनाया जा सकता है तो अगर आप क्लाउड कंप्यूटिंग से रिलेटेड स्कूल सीख जाते हैं तो फ्यूचर में इसकी काफी डिमांड होने वाली है

 एलिजिबिलिटी फॉर क्लाउड कंप्यूटिंग-

सीखने के लिए क्या-क्या एबिलिटी होती है उसके बारे में चर्चा कर लेते हैं और इसके अलावा ऑनलाइन लेने पड़ते हैं और इसके लिए कोई विशेष सब्जेक्ट पास करने की आवश्यकता नहीं होती है अगर आप कर चुके हैं और कुछ प्रोग्राम के बारे में आपको जानकारी है तो आपके लिए यह थोड़ा आसान होने वाला है लेकिन अगर आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं जानते हैं तो बेसिक लैंग्वेज का कोर्स करके क्लाउड कंप्यूटिंग में कैरियर बना सकते हैं 

 Reputed सर्टिफिकेशन इन क्लाउड कंप्यूटिंग –

woman in black academic dress and academic hat
Photo by Olya Kobruseva on Pexels.com

 गूगल सर्टिफाइड प्रोफेशनल क्लाउड आर्किटेक्ट

 माइक्रोसॉफ्ट सर्टिफाइड सॉल्यूशन एक्सपर्ट क्लाउड प्लेटफॉर्म एंड इंफ्रास्ट्रक्चर-

 सिस्को सर्टिफाइड नेटवर्क एंड क्लाउड  सर्टिफिकेशन

 एचपी एक्सपर्ट क्लाउड सर्टिफिकेशन
 आईबीएम सर्टिफाइड सॉल्यूशन आर्किटेक्ट सर्टिफिकेशन

 सर्टिफिकेट कोर्स है जो आप क्लाउड कंप्यूटिंग स्किल सीखने के लिए कर सकते हैं इसके अलावा इसके साथ मिलकर कुछ क्लाउड कंप्यूटिंग प्रोग्राम जारी किए हैं जिन्हें आपने नेट पर सर्च करके इन कोर्स को कर सकते हैं

 जॉब role इन क्लाउड कंप्यूटिंग-

तो दोस्तों अब हम जानेंगे की इन सर्टिफिकेट को प्राप्त करने के बाद किस प्रकार की जॉब्स हमें प्राप्त हो सकती है इस प्रकार के सर्टिफिकेट कोर्स करके आप क्लाउड इंजीनियर क्लाउड आर्किटेक्ट क्लाउड सपोर्ट इंजीनियर क्लाउड सॉल्यूशन इंजीनियर एडमिनिस्ट्रेटर क्लाउड मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स के तौर पर भी आप काम कर सकते हैं जैसे कि आप वेब एनालिटिक्स में जा सकते हैं एप डेवलपमेंट में जा सकते हैं

 इन सर्टिफिकेट और कोर्स को सीखने के बाद आप गूगल एप्पल ऐमेज़ॉन और क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर कंपनी में काम कर सकते हैं

 सैलरीज इन क्लाउड कंप्यूटिंग-

hand holding fan of us dollar bills
Photo by Karolina Grabowska on Pexels.com

अगर सैलरी की बात की जाए तो क्लाउड कंप्यूटिंग कोर्स करने के बाद आपको शुरुआत में तीन से छह लाख सालाना सैलरी ऑफ़ अ की जा सकती है जो कि आपके नॉलेज और इंटरव्यू पर निर्भर करती है सैलरी के बारे में जानकारी इंटरनेट पर प्राप्त सैलरी ट्रेन के अनुसार दी गई है जो कि 2021 तक एप्लीकेबल है जैसे-जैसे आपका इस फील्ड में एक्सपीरियंस पड़ता है आपकी पोस्ट बढ़ती है आपका सैलरी पैकेज भी काफी हाई होता जाता है

तो दोस्तों क्लाउड कंप्यूटिंग में आज life को बहुत आसान बना दिया है क्योंकि आप क्लाउड कंप्यूटिंग का यूज़ करते हुए दुनिया के किसी भी कोने से अपने डाटा को आसानी से एक्सेस कर सकते हैं तो मैं उम्मीद करता हूं कि आपको यह आर्टिकल पढ़ने के बाद क्लाउड कंप्यूटिंग के बारे में काफी कुछ नॉलेज जानने को मिला होगा

 इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपके क्या सुझाव और विचार हैं हमें कमेंट करके जरूर बताएं आर्टिकल पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद