मध्य प्रदेश की अर्थव्यवस्था से संबंधित पाठ्यक्रम एमपीपीएससी के लिए

जो मुख्य पाठ्यक्रम है वो मध्य प्रदेश की अर्थव्यवस्था मध्य प्रदेश की कृषि मध्य प्रदेश की जनसंख्या आदि पर केंद्रित है और इसीलिए अगर आप देखें तो इस पुरी पाठ्यक्रम में जो पहला बिंदु हमें देखना है वो ये है मध्य प्रदेश की चाणक्य की और जनगणना दोस्तों किसी भी राज्य की पापुलेशन जनगणना जनसंख्या उसके लिए आर्थिक समृद्धि आर्थिक रिसोर्स के रूप में कम करती इसीलिए अर्थशास्त्र की चर्चा में हम प्रीलिम्स के डिस्कशन में बहुत विस्तार से बात करेंगे की मध्य प्रदेश में!

क्योंकि है या फिर जनसंख्या है उसका क्या विभाजन है क्या वितरण है कौन सा सत्र कौन सा खंड किस योगदान देखो देता है कौन सा पाठ करता है कृषि में है, उद्योग में है, सेवा में है, आदि दोस्तों दूसरा पाठ हमारा है मध्य प्रदेश का आर्थिक विकास इस पूरे पाठ में दरअसल बात होती है मध्य प्रदेश की बजट की बजट में क्या आंकड़े हैं कौन सी योजनाएं हैं और किस नेशन से किन योजनाओं से मध्य प्रदेश के आर्थिक विकास को किया जा रहा है की यहां पर बहुत सारा हमारा मुद्दा रहेगा बजट केक ऊपर बहुत सारे मुद्दे रहेंगे उनके सिलेबस के ऊपर या फिर किन योजनाओं से मध्य प्रदेश का विकास किया जा रहा है?

तीसरा दोस्तों हमारा है मध्य प्रदेश के प्रमुख उद्योग तो यहां पर पूरे राज्य में अलग-अलग भागों में अलग-अलग जिलों में कौन-कौन? से उद्योग वितरित हैं कौन-कौन? से उद्योगों का एक दबदबा है उसमें किन-किन? कर्म से वो उद्योग वहां लगाए गए हैं कितना रोजगार जेनरेट करते हैं कितना जीएसटी कलेक्शन जो सीएसटी है राज्य का जीएसटी है वो कितना आएगा इन सभी बातों पर दोस्तों यहां पे हम चर्चा करेंगे और अंत में प्रारंभिक परीक्षा के सिलेबस में दोस्तों आप देखें जो मध्य प्रदेश की जाती है अनुसूचित जाती है जनजातियों हैं और राज्य की?

कल्याणकारी योजनाएं हैं इनकी ऊपर हमारी चर्चा विस्तार से होगी क्योंकि इनसे काफी प्रश्न आपको इस एग्जाम में मिलेंगे खासकर प्रीलिम्स में तो राज्य की जो भी योजनाएं हैं कल्याणकारी जो बजट में घोषित हैं या अन्य रूप से जिन योजनाओं को निकाला गया है उनके ऊपर हमारी चर्चा दोस्तों यहां पे होगी तो फ्रेंड्स ये हमारा एक पार्ट है जहां पर प्रारंभिक परीक्षा का सिलेबस आपके सामने है और हम आगे बढ़ते हैं मुख्य परीक्षा के सिलेबस के ऊपर मुख्य परीक्षा के पाठ्यक्रम के ऊपर दोस्तों मुख्य परीक्षा इसका जो पाठ्यक्रम है वो तीन इकाइयों में विभाजित है इकाई एक दो और तीन!

अलग-अलग आयु में अलग-अलग मुद्दों पर हमें चर्चा करनी होगी तो हम शुरू करते हैं पहली इकाई से? दोस्तों जो पहली इकाई है उसमें आप देखें भारत की बात हो रही है भारत में कृषि उद्योग और सेवा से जुड़े मुद्दे और उसकी पहल दोस्तों इस पूरे पाठ में हम डिस्कस करेंगे की भारती कृषि की क्या समस्या है उन समस्याओं के निवारण के लिए क्या उपाय किए गए हैं भारतीय उद्योग की क्या समस्या रही है आजादी के बाद से क्या समस्या है वर्तमान में क्या समस्या है कौन-कौन सी योजनाएं? कौन-कौन? सी नेशन के माध्यम से उन समस्याओं का निदान ढूंढा जा रहा है तो हमारे सिलेबस के पहली इकाई के जो पहला बिंदु है वो दरअसल भारतीय कृषि उसके उद्योग और सेवाओं से जुड़े जो क्षेत्र हैं उनकी समस्या समाधान प्रावधान को लेकर है?

दोस्तों इसके बाद आती है बात राष्ट्रीय आय की जो गणना है दोस्तों इस पाठ में बात होती है जो जीडीपी है सकल घरेलू उत्पाद है जो जीएनपी है राष्ट्रीय आय है राष्ट्रीय आय में क्या चीज होती हैं उनकी क्या घटक हैं उसमें रिप्रेजेंट क्या है राष्ट्रीय आय के साथ में जो मौद्रिक नीति है उसका संबंध कैसा है तो दोस्तों इस पाठ में दरअसल राष्ट्रीय आय की गणना के ऊपर जीडीपी जीएनपी राष्ट्रीय आए प्रति व्यक्ति राष्ट्रीय आय और इससे जुड़े जितने भी मुद्दे हैं उन पर हम चर्चा करेंगे जो अगली हमारी नीति होगी जो अगला हमारा टॉपिक होगा वो होगा भारतीय रिज़र्व बैंक और व्यापारिक बैंकों के कार्य के ऊपर जिसमें मौलिक नीति भी है और जिसमें वित्तीय समावेश भी है दोस्तों इस पाठ में क्या होगा बेसिकली जो रिज़र्व बैंक है उसकी बात करेंगे की भारतीय रिज़र्व बैंक की क्या भूमिका रही है उनके क्या कार्य हैं उनका मुख्य?

योगदान है वह मौजूद नीति में कैसे होता है, बैंकिंग के बारे में जुड़े सारे मुद्दे दोस्तों यहां कवर किए जाएंगे क्योंकि यहां पे आप देखें व्यापारिक बैंकों के जो कार्य हैं उनकी हम बात करेंगे व्यापारिक बैंक के कार्य उनकी समस्या एमपी के मुद्दे या सरकार ने आरबीआई ने बैंकों की समस्या के समाधान के लिए जो भी उपाय किए हैं उनकी बात इसमें की जाएगी इसके बाद में हम बात करेंगे इसी के साथ की बात करेंगे वित्तीय समावेशन की जिसका मतलब है अधिक से अधिक लोगों को बैंकिंग ghache में शामिल किया जाएगा तो?

जिन लोगों को शामिल किया जाएगा उसके लिए क्या योजना है क्या प्रयास है और उसे पूरे प्रयास में क्या बढ़ा आती है इस पुरी बातों पर इस बिंदु पर चर्चा होगी तो यदि आप अभी तक का पाठ देखें तो इसमें आप देखेंगे भारतीय उद्योग सेवा से जुड़े मुद्दे हैं राष्ट्रीय आय की मुद्दे हैं और राष्ट्रीय आय की गणना है और साथ ही साथ में जो रिज़र्व बैंक है व्यापारिक बैंक है वित्तीय समावेश है और जो मौद्रिक नीति है उसकी हम बात इसमें करेंगे आगे बढ़ते हुए आप देखें!

एक अच्छी कर बनाने किसे कहते हैं भारत में बहुत प्रकार के कर लगाए जाते हैं जिसमें प्रत्यक्ष कर भी हैं अप्रत्यक्ष कर भी हैं प्रत्यक्ष कर्म में सुधारो की भी मांग होती है अप्रत्यक्ष कर में भी तोहर किए गए हैं जिसका नाम है वस्तु एवं सेवा कर गुट्स एंड सर्विस टैक्स दोस्तों यहां पर क्या है बेसिकली हमें इस बात पे चर्चा करनी है की जो प्रत्यक्ष कर हैं अप्रत्यक्ष कर हैं उनकी प्रणाली क्या है इन त्रिकोण से लगाया जाता है उनकी समस्या क्या है और भविष्य में क्या सुधार किए जा सकते हैं साथ ही साथ जो सब्सिडी है subsiddhi का मुद्दा बहुत महत्वपूर्ण है सरकारें कुछ वर्गों को विशेष वर्गों को उनके आर्थिक उत्थान के लिए सब्सिडी उपलब्ध करती है आर्थिक सहायता देती है तो यहां पर हम बात करेंगे सरकार के द्वारा कितनी सब्सिडी दी जाती है उसके? अलग-अलग आर्थिक प्रभाव क्या है क्योंकि सब्सिडी से सरकार के ऊपर वित्तीय बोझ भी आता है?

लेकिन साथ ही साथ जो कमजोर वर्ग हैं उनके उत्थान में भी सहायक होता है, इसीलिए सब्सिडी के दोनों पहलुओं को देखा जाएगा साथ ही साथ सब्सिडी का जो रूप है नगद लें दें की बहुत बार हमने देखा ये देखेंगे की नगर सब्सिडी दी जाती है जो सीधा खाटू तक पहुंचती है, जिसमें पीएम किसान योजना को आप जानते होंगे तो पीएम किसान एक प्रकार की इसी बात की बात हो रही है की नगद लेनदेन नगद सब्सिडी बहुत बार सरकार लोगों को लाभार्थियों को उपलब्ध करती है?

इसके बाद राजकोषीय नीति दोस्तों rajkoshi नीति का संबंध दर्शन सरकार से है बजट से है और इस पुरी नीति में सरकार आने वाले वर्ष में जो भी सरकार की प्रयास है जो सरकार का लक्ष्य है उसको तय करती है सरकार बताती है की हमारा यह, लक्ष्य होगा ये योजनाएं होंगी इतना हमारा बजट में खर्च होगा इतनी हमारी प्राप्ति होगी उसे प्राप्ति और वह का जो अंतर है उसे हम घटा और adishhesh कहते हैं तो यदि हमारा वह ज्यादा होगा तो घटा लगेगा तो घटा कितना होगा कांटे को कम कैसे करेंगे क्या योजना चलाएंगे कल को बढ़ाएंगे या नहीं बढ़ाएंगे सभी बातों की बात दोस्तों इस rajkoshi नीति में होती है, जिसका संबंध करूं से भी बिल्कुल प्रत्यक्ष रूप से होता है क्योंकि rajkoshi नीति में सरकार के वे आते हैं rajkoshi नीति में सरकार की प्राप्ति आती है वह का संबंध बहुत जगह पर सब्सिडी से है और प्राप्ति के लिए!

बन के उभरता है इसके बाद फ्रेंड्स आता है हमारा सार्वजनिक वितरण प्रणाली इसको हम पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम कहते हैं क्योंकि इसमें और इसमें बेसिकली क्या है जो गरीब वर्ग है या जो लाभार्थी वर्ग है उसको सरकार के द्वारा जिसमें राज्य और केंद्र दोनों की भागीदारी होती है यहां पर दोस्तों दरअसल क्या है हम समझेंगे की पीडीएस जो सिस्टम हमारा है उसकी शुरुआत कब हुई उसने कब तक सुधार हुआ सुधार क्यों हुआ उसके वर्तमान समस्या क्या है भविष्य में क्या सुधार किए जाने चाहिए ताकि लोगों को जो भी राशन आमंत्रित किए जाते हैं? राष्ट्रीय अधिनियम की तहत वो उनको पहुंच सकें यदि कोई बढ़ा है तो बढ़ा को दूर कैसे करें और इस संदर्भ में इसी?

सिफारिश क्या है उनके किन बातों पे अमल किया जाना चाहिए इसके बाद दोस्तों भारतीय अर्थव्यवस्था की वर्तमान प्रवृत्तियां और चुनौती है इसका मतलब है की इस समय अगर भारतीय अर्थव्यवस्था को देखें तो हमारी अर्थव्यवस्था की वर्तमान क्या चुनौतियां हैं क्या प्रवृतियां हैं जैसे हम अगर बात करें तो यहां पे आप देखिए राजपूत ही थी अगर सरकार बहुत ज्यादा खर्च करती है तो बहुत ज्यादा घटक लगता है, जिसको हम राजपूत ही घटा कहते हैं? उधर लेना पड़ेगा तो वो आने वाले वर्षों के लिए चुनौती बन जाती है भारतीय अर्थव्यवस्था में दोस्तों जो गारी! बी और उन चुनौतियों से निपटने के लिए क्या प्रयास किए जा रहे हैं और क्या और प्रयास किए जाने चाहिए ये सारी बातें इस पूरे डिस्कशन में हम करेंगे दोस्तों इसके साथ ही क्या है जो बेरोजगारी है और क्षेत्रीय असंतुलन है आपने देखा होगा भारत के कुछ राज्य जो धन धन के रूप में देखे जा सकते हैं और कुछ राज्यों में काफी गारी?

कुछ राज्यों ने उद्योग है कुछ राज्यों में अच्छा अच्छी खेती है कुछ राज्यों में ना उद्योग है ना खेती है और गरीबी काफी है तो? ये वाली है! राज्य गरीब है तो इनकी बात चर्चा योगी है जो हम इस डिस्कशन में करेंगे और कैसे हरित क्रांति इसको हमने शुरू किया 19060 की दशक ने उसे हरित क्रांति से भारत के कृषि में क्षेत्रीय समानता आई है या उद्योगी नीति से भी उद्योगों की नीति से भी समानता को देखा गया है तो इस बिंदु में इस पूरे पॉइंट में दोस्तों विस्तार से आप देखें जो अगर इन दोनों को मिला देंगे आप तो देखेंगे की rajkoshi नीति है कृषि है?

या फिर भारतीय अर्थव्यवस्था की वर्तमान प्रवृत्ति है जैसे आप देखें भारतीय अर्थव्यवस्था में इस समय जो सेवा क्षेत्र है सेवा क्षेत्र का सबसे ज्यादा योगदान है सकल घरेलू उत्पाद ने जीडीपी में तो! ऐसा नहीं योग्य है की आजादी की बात से हमें प्रगति थी तो ऐसा क्या हुआ की भारतीय जीडीपी में सेवा का योगदान लगातार बढ़ता चला गया और कृषि और उद्योगों का योगदान होना चाहिए था उसकी जो कंट्रीब्यूशन है उसमें बहुत ज्यादा प्रगति नहीं हुई खुद में क्या है? की भारतीय अर्थव्यवस्था की क्या प्रवृत्तियां हैं चुनौतियां है और क्षेत्रीय असंतुलन क्यों होता है? की निर्यात भारत के आयात व्यापार घाटे चालू खाता इन सभी की बात करते हैं हम इस बात को देखते हैं की भारत का जो अंतरराष्ट्रीय व्यापार है वो जो है किस आधार पे है, किन देशों के साथ में है, इन वस्तुओं के ऊपर है और उसे व्यापार में हम कितने लाभ को प्राप्त करते हैं कितनी हनी होती है कौन सा राज्य जो इसमें अच्छा करता है या कौन सा देश इसमें सबसे अच्छा मुनाफा कमाता है जिसे हमारा नेपाल खाता हो सकता है तो यहां पर दोस्तों बात होती है भारत के अंतरराष्ट्रीय व्यापारी की आयात की निर्यात की व्यापार घाटे की चालू खाते की भुगतान संतुलन दरअसल एक देश का विश्व के सभी देशों से जो भी लेन-देन है उसका एक लेखा जोखा होता है तो भुगतान संतुलन की बात करेंगे विदेशी पूंजी की भूमिका की बात करेंगे की विदेशी पूंजी है उसकी क्या भूमिका रहती है क्योंकि?

विदेशी पूंजी के बिना या विदेशी पूंजी के साथ ही भारत में काफी उद्योगों को प्रोत्साहन मिला है जब से हमने अपने आप को udharikrit किया है हमने अपने आप को vaishvikrit किया है तो काफी? सारा पे जिन्होंने भारत ने उद्योग को प्रोत्साहन दिया है या रोजगार को प्रोत्साहन दिया है इसके साथ दोस्तों आप देखें और राष्ट्रीय कंपनियों की बात इसमें प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की बात मतलब यही कहते हैं फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट कहते हैं इसके बाद आयात निर्यात नीति एक्सपोर्ट भारत ने या हर पंच साल में 5 वर्षों में हम अपनी आयात निर्यात नीति जिसको हम एक दिन पॉलिसी भी कहते हैं एक्सपोर्ट इंपोर्ट पॉलिसी व्यापार नीति भी कहते हैं इनको हम तय करते हैं और देखते हैं की अगली पंच वर्षों में हमारे आयात निर्यात नीति में क्या उद्देश्य हैं उदाहरण के लिए अभी डकार ने कहा की 2030 तक भारत की सीमा निर्यात का जो आंकड़ा है उसको 1000 अरब डॉलर तक लेकर जया जाएगा तो ये सारी बातें आयात निर्यात नीति में आती है, इसके साथ हमें पता चलता है की देश की सरकार की क्या नीति है सरकार का क्या एक ऑब्जेक्टिव है हमारे एक्सपोर्ट इंपोर्ट को लेकर इसके बाद दोस्तों बात आती है अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की जिसमें बात करेंगे की अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष का एक अस्तित्व कैसे आया वर्तमान में इसकी भूमिका क्या है भारत के भुगतान संतुलन का संकट आया था?

तो कैसे अंतरराष्ट्रीय मुद्रा पूछने हमारी सहायता की हमें ऋण उपलब्ध कराया और साथ ही साथ विश्व बैंक की विश्व बैंक के दरअसल क्या है ये क्या करता है इसकी क्या शाखाएं हैं इनकी बात इसमें हम करेंगे साथ ही साथ एशियाई विकास बैंक एशियाई डेवलपमेंट बैंक ये सारे एक विकास बैंक है डेवलपमेंट बैंक कहते हैं क्योंकि ये विकास के लिए डेवलपमेंट के लिए रिंकू उपलब्ध करते हैं इसके बाद दोस्तों बहुत विस्तार से बात करेंगे विश्व? को हम टो वर्ल्ड ट्रेड! टावर क्यों आया इसकी क्या समझौते हैं इसके क्या उद्देश्य है इसके क्या सिद्धांत है एक बहुत चर्चा होगी की विश्व व्यापार संगठन क्या है क्यों है फिल्म बात करेंगे आसियान की आसियान कैसा समूह है जो दक्षिण पूर्वी एशिया 10 देशों का एक समूह है जो केवल आर्थिक समूह ने बल्कि वो राजनीतिक भी है आर्थिक भी है सामाजिक भी है और सुरक्षा को लेकर भी इंडोनेशिया मलेशिया कंबोडिया थाईलैंड दक्षिण पूर्वी एशिया में उनका एक समूह है दोस्तों इसके बाद बात होती है 8 देशों का एक समूह है जिसमें भारत है भारत के जो आसपास निर्देशन पाकिस्तान है अफ़ग़ानिस्तान है श्रीलंका है बांग्लादेश है नेपाल है?

देशों का जो समूह है उसे इंसान कहते हैं तो हम इसके बाद करेंगे क्योंकि हमने tarkdeshon ने 2004 में एक मुख्य व्यापार समझौता किया जिसको हम साफ कहते हैं इसलिए? कौन सही है महत्वपूर्ण हो जाता है इस आफताब क्या है इसके उद्देश्य क्या है और किन कर्म से भारत और आसपास के देशों के जो अपने तनाव है उसको लेकर हमारे नेपाल हमारे हाथ के प्रति जो बाजार आती है उसके क्या कारण है दोस्तों यहां पर सार्थक की बात करेंगे नाश्ता नोट अमेरिकन? फ्री एग्रीमेंट पर जो तेल के कच्चे तेल के प्रमुख उत्पादक और निर्यातक देश है उनका जो समूह है? पूरे भाग में फ्रेंड्स हमारी चर्चा बहुत ज्यादा व्यापक होगी जिसमें आ अंतरराष्ट्रीय व्यापार को लेकर भारत की स्थिति भुगतान संतुलन की समस्या उसका ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के साथ साथ!

और वितरण का जो भौतिकी और सामाजिक ही है पर्यावरणीय प्रभाव है उसके बाद करेंगे मैन लीजिए अगर हम देखे की किसी पार्टिकुलर फसल का एक प्रतिरूप चलता है? उसके सभी बातों पर! इसका सेशन बहुत ज्यादा! नकारात्मक! प्रभाव पूरे पाठ में मध्य प्रदेश को केंद्र बनाकर फसलों का उत्पादन है वितरण है या सामाजिक पर्यावरणीय प्रभाव क्या है साथ ही साथ बी और खाद की गुणवत्ता प्राप्त होती है आमतौर पर बीच और खाद की जो आपूर्ति है उसकी गुणवत्ता है उससे कृषि की उत्पादकता गुणवत्ता होती है?

इंसानों की और? ठीक स्थिति तो एक बात ये भी है की हमें बीच खाद्य अन्य जो सामग्री है जो कच्चा मल एजुकेशन में लगता है, उसकी उपलब्धता हमें अच्छी करनी होगी दोस्तों इसके साथ ही क्या है कृषि के तरीके हैं इन त्रिकोण से किसी होती है अलग-अलग तरह की कृषि होती है जो ऑर्गेनिक है हॉर्टिकल्चर जिसको कहते हैं जिसमें पाल शक्ति खासकर फल उनका उत्पादन आता है और अब देखिए भारत से बहुत बड़ी मात्रा में जो ये फर्स्ट फल है सबसे है इसका उत्पादन होता है जो अतिरिक्त आयु के रूप में एक नेता क्योंकि उसे फल का सब्जी निर्यात करते हैं उसकी एथिक्स टाइम मिलती है साथ ही साथ मेरी उत्पाद है मदद से पालन है पशुपालन है इसका मतलब दोस्तों यहां पर ये हुआ की जो खेती है जो पशुओं का पूरा सिस्टम है उसके साथ ही साथ पशुपालन को लेकर भी हमें विस्तार से चर्चा करनी होगी और आपको ये ध्यान रखना होगा की जो पशु पालन है मध्य प्रदेश में क्या जनसंख्या है क्या उसका एक उत्तर है और किन त्रिकोण से किसने की आयु को दोगुनी की जा सकती है क्योंकि किसान को यदि हम मदरसे पालन दे दी उनकी पालन यानी की आदि पूर्ण करेंगे और साथ हीलिए?

आप जो कृषि उत्पादन के साथ साथ परिवहन है भंडारण है विपणन से संबंधित समस्याएं आपने कभी मंडी देखी होगी तो आप देखेंगे उसे बाहर बहुत सारा ऐसा अनाज है उत्पादन व्यर्थ हो जाता है क्योंकि हैंडलिंग में उनके वितरण में उनके भंडारण में बहुत सारी समस्या होती है आधारभूत संरचना की कमी होती है तो यहां पर इनसे आगे बड़े तो! ऐसा लेट फोकस करना पड़ेगा की उत्पादन ही नहीं बल्कि उत्पादन के संबंध में जो उसका परिवहन है भंडारण है जो विपणन है वो भी हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण रहेगा और प्रश्न यहां से ए सकते हैं की क्या समस्या मध्य प्रदेश को लेकर हैं सरकार की योजनाओं में कौन सी योजना है क्या प्रयास है जिसे सरकार कृषि संबंधित जो समस्याएं हैं उनका समाधान करने का प्रयास कर रही है दोस्तों इसके बाद आता है कृषि की कल्याणकारी योजनाएं इसमें हम बात करेंगे की सरकार ने किसने के लिए और किसी के लिए कौन-कौन? सी कल्याणकारी योजनाएं कहलाए हैं कौन सी योजना शुरू की है?

के लाभार्थी कौन है उनकी क्या मापदंड है उनसे क्या फायदा पहुंचेगी इसके बाद मध्य प्रदेश में? का योगदान! उभरते हुए राज्य! की भाषा है और इसीलिए मध्य प्रदेश में जो सीमा जीत रहे हैं उसका कितना योगदान है वो कितना कंट्रीब्यूशन देता है इसके बाद करेंगे साथ ही साथ मध्य प्रदेश की आधारभूत ढांचा और संसाधन की बात भी करेंगे की मध्य प्रदेश में इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास किस प्रगति? से होने का वहां बने हैं कौन? सा जिलों को जोड़ते हैं जैसे मध्य प्रदेश की आर्थिक प्रगति को एक नई दिशा और दशा मिलती है तो यहां पर दोस्तों मध्य प्रदेश के इंफ्रास्ट्रक्चर और इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े जो मुद्दे हैं उनकी हम बात विस्तार से करेंगे!

दोस्तों इसके बाद आता है मध्य प्रदेश का janankiy प्रदूषित और मध्य प्रदेश की अर्थव्यवस्था पर इसका प्रभाव जैसा मैंने शुरू में कहा की जनसंख्या एक संसाधन होती है जनसंख्या यदि सही से उसका दोहन किया जाए तो राज्य और देश के लिए एक आर्थिक संसाधन मंत्री है जिसका राज्य को केंद्र को या पुरी समाज मिलता है तो यहां पर दोस्तों बात होगी जो हम पढ़ेंगे जो हम पढ़ेंगे प्राइमरी परीक्षा के लिए तो उसे परीक्षा के सिलेबस के अलावा यहां मिलेगा यहां भी दरअसल जो मध्य प्रदेश की जानकी है पापुलेशन का डिस्ट्रीब्यूशन है उसमें महिलाओं का पुरुषों का योगदान है और किस-किस? राज्य में किस क्षेत्र में कितना वितरण है जो हमारी पापुलेशन है वो? किस-किस गतिविधियों में लिप्त है? इन सभी बातों पर विस्तार से चर्चा करने से ये पता चलता है की मध्य प्रदेश के स्टार पर जो वहां की पापुलेशन है वो किस प्रकार से उनका दोहन करके हम राज्य का विकास अधिक?

कर सकते तो यहां पर जो मैं दूसरी कही है जिसमें हमारा मुख्य फोकस से मध्य प्रदेश की अर्थव्यवस्था के ऊपर है तो यहां पर दोस्तों हम मध्य प्रदेश के कृषि मध्य प्रदेश की जानकी! इसके अपने डिस्कशन को आगे बढ़ते हैं दोस्तों इसके बाद जो तीसरी इकाई है? उससे पहले मध्य प्रदेश के स्टार पर जो उद्योग है! उनकी समृद्धि है उनकी चुनौती है किसी भी राज्य मध्य प्रदेश राज्य की बात करें तो उसे राज्य की जो आर्थिक स्थिति है जिसने उद्योग है विवाह है ऋषि है हमने इससे पहले बात की मध्य प्रदेश की कृषि को लेकर विस्तार से बात हम करेंगे पुष्पा?

भी आएगा तो अब हम बढ़ेंगे मध्य प्रदेश की जो आर्थिक समृद्धि है किन-किन? क्षेत्र में आर्थिक प्रगति है आर्थिक क्षेत्र है औद्योगिक क्षेत्र है उनके हम बात करेंगे प्रवृत्तियां क्या है और उनकी चुनौतियां क्या कहें इसके बाद दोस्तों आता है? क्वेश्चन नंबर संसाधन की उपलब्धता ऐसा क्या है जो राज्यों को कुशल मानव संसाधन देता है ऐसा क्या है की नेशन से राज्य अपने मानव संसाधन का इस्तेमाल कर सकता है क्योंकि उसका इस्तेमाल करके ही वो अपनी आर्थिक प्रगति को आगे बढ़ा सकता है दोस्तों यहां पर कुशल मानव संसाधन की उपलब्धता मानव संसाधन का नियोजन उत्पादकता रोजगार आदि से जुड़े सभी मुद्दों पे हम चर्चा करेंगे?

दोस्तों इसके साथ ही आप देखें दरअसल हमने अभी तक नहीं चर्चा में जम्मू की परीक्षा है उसे मुख्य परीक्षा के सिलेबस के दो इकाइयों को हमने डिस्कस किया पहली इकाई में दरअसल पूरे भारत के और विश्व विश्व के व्यापार को लेकर हमने डिस्कस किया की भारत की बैंकिंग भारत की rajkoshi नीति कराधान या अन्य मुद्दों पर हमारा सिलेबस था इकाई दूसरी में मध्य प्रदेश को लेकर मध्य प्रदेश का जो उद्योग है मध्य प्रदेश का मानव संसाधन है मध्य प्रदेश की कृषि है? केंद्रित हमारी व्यवस्था स्थापित हमारे प्रश्न पूछे जाते हैं दोस्तों हमारी सिलेबस की जो तीसरी इकाई है जहां पर जो फोकस है वो मानव संसाधन ऐसा फूल है यहां पे आप देखिए दोस्तों जो हमारा सिलेबस है वो मानव संसाधन की बात करता है तो बात करता है की शिक्षा दोस्तों किसी भी जनसंख्या किसी भी मानव के समूह का यदि हम आर्थिक करना चाहेंगे और उसे मानव के समूह को संसाधन में परिवर्तित करना चाहेंगे तो उसे समूह के परिवर्तन के लिए हमें उसको शिक्षा देनी पड़ेगी और इसीलिए यहां पर शिक्षा हमारी चर्चा होगी की शिक्षा समस्या है जो इसमें दरअसल हम बात करेंगे मध्य प्रदेश की भी बात करेंगे पूरे भारत की थी की भारत की मानव विकास के दोहन के रास्ते में!

कौन सी समस्या आती है हालांकि दूसरी इकाई में मानव संसाधन की बात मध्य प्रदेश के दृष्टिकोण से की जा चुकी है यहां तक हम जब पढ़ेंगे हम देखेंगे मध्य प्रदेश के संदर्भ में जो मध्य प्रदेश का! यहां पर हम मध्य प्रदेश और पूरे भारत के स्टार पर चर्चा करेंगे की जो! शिक्षा है उच्च शिक्षा है तकनीकी शिक्षा है टिकट की शिक्षा है और जो व्यावसायिक शिक्षा है? उनमें क्या समस्या है क्या मुद्दे हैं उसने जो क्वालिटी है उसकी क्या समस्या आपने देखा होगा भारत से भारत में बहुत सारे कॉलेज हैं किंतु उनसे पास हुए छात्र छात्राएं उद्योग?

क्योंकि उनमें कौशल विकास की बहुत कमी होती है जिसका एक रीजन है की शायद शिक्षा और जो प्रशिक्षण है उसकी? समस्या है! वर्तमान परिस्थितियों है वर्तमान मांग है उससे कहीं भिन्न है इसीलिए दरअसल बात करेंगे इस पूरे पाठ में शिक्षा और? शिक्षा तकनीकी शिक्षा है इन सभी शिक्षा के मुद्दों के बात करेंगे और उसमें जो बालिकाओं की शिक्षा है की कैसे हम अपने शिक्षा प्रणाली में बालिकाओं को बेहतर स्थान दे पाएंगे कैसे उनको आगे बढ़ते हुए जो लैंगिक समानता है लैंगिक?

Riktikaran है उसको बढ़ाएं तो यहां पर उसे चीज की बात ज्यादा होगी की शिक्षा पर क्या हमारा फोकस रहेगा इसके बाद दोस्तों बात आती है हमारी सामाजिक मुद्दों की? आप देखिए दोस्तों बात करेंगे! सूअर में बच्चे हैं महिलाएं हैं वृद्धजन हैं दिव्यांगजन है तो digamjan है महिलाएं हैं बच्चे हैं विद्युत है! इसलिए क्या क्या योजनाएं सरकार ने चलाई हैं पहली बात तो ये दूसरी बात ये है की उनके मुद्दे क्या है जैसे आप देखें सरकार ने शुरू किया भारत सरकार ने सुगम में भारत की योजना उसका उद्देश्य है की जो दिव्यांग जैन है उनकी बहुत सरकारी दफ्तरों तक?

जो पब्लिक ट्रांसपोर्ट है वहां तक पहुंच सके ताकि एक समावेशी विकास ए सके और इसीलिए इस पूरे पाठ में दरअसल हमारा अर्थव्यवस्था का जो चर्चा है उसका! एरिया! नहीं हो सकती तो आर्थिक प्रगति को पुरी करने के लिए दूसरा फोकस रहेगा की हम उसे प्रगति में इन लड़कों को भी शामिल करें जो बहुत बार वंचित रह जाते हैं क्योंकि उनको मुख्य धारा में जगह नहीं मिलती मुख्य धारा बाकी लोगों के लिए आरक्षित हो जाती है? और इसीलिए हम इस बार बात करेंगे जो वर्क हमारे हैं उनके लिए क्या कल्याणकारी कार्यक्रम है इसमें दिव्यांगजन है महिला है बच्चे हैं वृद्ध जैन है और?

सामाजिक सामाजिक रूप से वंचित वर्ग के मैन लीजिए ट्रांसजेंडर समुदाय है तो ऐसे वर्ग हैं जो किसी ने किसी कारण से सामाजिक उपेक्षा का शिकार हुए हैं तो उनको मुख्य धर्म में लाने के लिए क्या समस्या है और सरकार द्वारा क्या योजनाएं की जा रही है? यदि हम बात करें श्रमबल में भागीदारी तक तो महिलाओं की भागीदारी पुरुषों की तुलना में! महिलाओं के स्टार पर जो आय का स्टार भी है परिवार को सपोर्ट करने की क्षमता उन्होंने होती है किंतु अवसर नहीं मिलती जिसका नाम से जो लैंगिक समानता है वो नहीं ए पाती इसीलिए बात यहां पे होती है की हम ऐसा क्या करें सरकार की योजना में क्या देखें उनको भी लाभ पहुंच इसके बाद दोस्तों बात आती है विकास परियोजनाओं के पशु रूप विस्थापित है जैसे आप देखिए अगर एक आंदोलन चला था आंदोलन तो बहुत बार ऐसा होता की बात बनाते हैं कोई हमें योजना बनाते हैं तो उसे योजना के तहत बंद के तहत?

वहां के लोगों को वहां के आदिवासियों को वहां के लोगों को वहां से हटा? या जाता है उनकी कृषि का नुकसान होता है? इसलिए बहुत महत्वपूर्ण है की जब भी हमको योजना बनाने योजनाएं तो जो! वह न्यूनतम हो यदि! इस प्रकार से कंपनसेशन दिया? जाए की जो भी प्लानिंग है उसमें jhalakna चाहिए वर्ण क्या होगा की राज्य में वो देश में एक आक्रोश पैदा होगा और वो अर्थ के लिए खाली नहीं हुआ दोस्तों यहां पर दरअसल इसलिए हम बात करेंगे जो भी हमारा वंचित वर्ग है कमजोर वर्ग है उनके लिए क्या से क्या किया जा सकता है तो दोस्तों ये था हमारा समाज करें तो देखेंगे की?

प्रारंभिक परीक्षा में अगर आप देखें जैसे हमने देखा यदि आप इस फिल्म के लिए अगर अच्छे से तैयारी करते हैं तो आप देखेंगे मध्य प्रदेश के जनक की जनगणना आर्थिक विकास उद्योग और जो योजनाएं हैं! वो मांस में बहुत हद तक कम आएगा यदि आपने इस समय अच्छे से अध्ययन कर लिया करेंगे उससे मुख्य परीक्षा में इकाई दूसरी है, वहां पर सारा का सारा कम आने वाला है? आपको करेंगे तो मुख्य परीक्षा के लिए हम भारत की कृषि उद्योग भारत में राष्ट्रीय आय भारत के बैंक आरबीआई विटी समावेश मोदी की थी भारत के स्टार पर जो कराधान है जो भारत के स्टार पर!

पॉलिसी है विदेशी व्यापार है हम इसे और करेंगे और मानव विकास की बात करेंगे तो हमारा जो प्रिपरेशन है वो अच्छा मजबूत हो जाएगा क्योंकि? दौरान जो हमने पढ़ा वो हमें बाय डिफॉल्ट! जो की मदद करेगा ही क्योंकि यहां पे आप देखें यहां पर उन्हें बातों की बातें की मध्य प्रदेश के कॉन्टेक्स्ट में यू पी सी है मध्य प्रदेश की अध्यक्ष ने जो उद्योग है जो सेवा क्षेत्र है और जो जानकी है ये हमने देखा था की पुलिस ने भी ये पार्ट आपको मिलता है और इसीलिए एक समुद्र रूप से हमें तैयारी करने की जरूरत है जैसे हम फ्री और मैं इस दोनों के लिए सर्वोत्तम तैयारी कर सकेंगे धन्यवाद!


Posted

in

by

Comments

%d bloggers like this: